Search This Blog

Saturday, December 8, 2018

फ़रीद ख़ाँ की नई कविताएँ



फ़रीद ख़ाँ

कुछ कवियों ने हिन्दी कविता को एक अलग पहचान दी है। फ़रीद ख़ाँ का नाम उनमें प्रमुख है – इनकी कविताएँ घर और देश से होते हुए पूरे संसार को अपने में समेटती हुई लगती हैं। इनके यहाँ स्त्री है तो राजनीति भी है, खुदा है तो सपनों की लाशें भी हैं और वह एक टीस भी जो  हर कलाकार आज कहीं न कहीं महसूस कर रहा है कि उसकी पीड़ा झेल रहा है। फ़रीद की कविताएँ साहस और विवेक के साथ अपने कथ्य और शिल्प से भी हमारा ध्यान खिंचती हैं। फ़रीद को हम खूब उम्मीद और यकीन के साथ अनहद के पाठकों के लिए लेकर आए हैं। उनका आभार प्रकट करते हुए आपसे गुजारिश करते हैं कि आप अपनी महत्वपूर्ण प्रतिक्रियाएँ जरूर लिखेंगे।

माफ़ी

सबसे पहले मैं माफ़ी मांगता हूँ हज़रत हौव्वा से.
मैंने ही अफ़वाह उड़ाई थी कि उसने आदम को बहकाया था
और उसके मासिक धर्म की पीड़ा उसके गुनाहों की सज़ा है जो रहेगी सृष्टि के अंत तक.
मैंने ही बोये थे बलात्कार के सबसे प्राचीनतम बीज.

मैं माफ़ी माँगता हूँ उन तमाम औरतों से
जिन्हें मैंने पाप योनी में जन्मा हुआ घोषित करके
अज्ञान की कोठरी में धकेल दिया
और धरती पर कब्ज़ा कर लिया
और राजा बन बैठा. और वज़ीर बन बैठा. और द्वारपाल बन बैठा.
मेरी ही शिक्षा थी यह बताने की कि औरतें रहस्य होती हैं
ताकि कोई उन्हें समझने की कभी कोशिश भी न करे.
कभी कोशिश करे भी तो डरे, उनमें उसे चुड़ैल दिखे.

मैं माफ़ी मांगता हूँ उन तमाम राह चलते उठा ली गईं औरतों से
जो उठाकर ठूंस दी गईं हरम में.
मैं माफ़ी मांगता हूँ उन औरतों से जिन्हें मैंने मजबूर किया सती होने के लिए.
मैंने ही गढ़े थे वे पाठ कि द्रौपदी के कारण ही हुई थी महाभारत.
ताकि दुनिया के सारे मर्द एक हो कर घोड़ों से रौंद दें उन्हें
जैसे रौंदी है मैंने धरती.

मैं माफ़ी मांगता हूँ उन आदिवासी औरतों से भी
जिनकी योनी में हमारे राष्ट्रभक्त सिपाहियों ने घुसेड़ दी थी बन्दूकें.
वह मेरा ही आदेश था.
मुझे ही जंगल पर कब्ज़ा करना था. औरतों के जंगल पर.
उनकी उत्पादकता को मुझे ही करना था नियंत्रित.

मैं माफ़ी मांगता हूँ निर्भया से.
मैंने ही बता रखा था कि देर रात घूमने वाली लड़की बदचलन होती है
और किसी लड़के के साथ घूमने वाली लड़की तो निहायत ही बदचलन होती है.
वह लोहे की सरिया मेरी ही थी. मेरी संस्कृति की सरिया. 

मैं माफ़ी मांगता हूँ आसिफ़ा से.
जितनी भी आसिफ़ा हैं इस देश में उन सबसे माफ़ी मांगता हूँ.
जितने भी उन्नाव हैं इस देश में,
जितने भी सासाराम हैं इस देश में,
उन सबसे माफ़ी मांगता हूँ.

मैं माफ़ी मांगता हूँ अपने शब्दों और अपनी उन मुस्कुराहटों के लिए
जो औरतों का उपहास करते थे.
मैं माफ़ी मांगता हूँ अपनी माँ को जाहिल समझने के लिए.
बहन पर बंदिश लगाने के लिए. पत्नी का मज़ाक उड़ाने के लिए.

मैं माफ़ी चाहताहूँ उन लड़कों को दरिंदा बनाने के लिए,
मेरी बेटी जिनके लिए मांस का निवाला है.

मैंने रची है अन्याय की पराकाष्ठा.
मैंने रचा है अल्लाह और ईश्वर का भ्रम.
अब औरतों को रचना होगा इन सबसे मुक्ति का सैलाब.

आओ मिल कर बद्दुआ करें.

दुनिया का कोई क़ानून बद्दुआओं के लिए किसी को रोक नहीं सकता.
इसलिए आओ सब मिल कर बद्दुआ करें कि
इस व्यवस्था के पोषकों को कीड़े पड़ें.
आओ उनकी जड़ों में मट्ठा डालें.

जिस संसद, अदालत, और प्रशासन को नहीं दीखते आँसू उन्हें आंसुओं में बहा दें.
हमारी अदालत उन सबको मुजरिम करार देती है.
उन सबका पुतला बना कर थूक दें उन पर.
या घरती पर उनके चित्र बनाकर रौंद डालें.
दुनिया का कोई क़ानून कुछ नहीं कर पाएगा.

भले हम बोल न पाएँ, लेकिन सपना तो देख ही सकते हैं.
दुनिया में कोई भी सपना देखने से नहीं रोक पाएगा.
इसलिए जो कुछ भी अच्छा है उसका मिल कर सपना देखें. 
और सपना नींद में न देखें इस बात का ख़याल रहे.
दुनिया का कोई भी क़ानून खुली आँखों से सपना देखने से नहीं रोक पाएगा.

तो आओ मिल कर बद्दुआ करें उस व्यवस्था के लिए
जिन्हें लक्ष्मणपुर बाथे नरसंहार का कोई दोषी नहीं मिलता.
जिन्हें हत्यारे नहीं मिलते रोहित वेमुला के.
जिन्हें बलात्कारी नहीं मिलते मणिपुर के.
जिन्होंने सोनी सोरी की योनी में ठूंस दिए थे पत्थर
उनके लिए बद्दुआ करें.
हमने उस क़ानून को कभी नहीं तोड़ा जो हमारे दमन के काम आते हैं.
लेकिन आओ ग़ुस्से से देखे उन्हें.
दुनिया का कोई क़ानून ग़ुस्से से देखने पर हमें रोक नहीं सकता.

मन ही मन बना डालते हैं एक देश किसी को पता भी नहीं चलेगा.
और मन में कोई देश बनाना क़ानून का उल्लंघन भी नहीं है.
मन ही मन दोषियों को सज़ा देना भी क़ानून का उल्लंघन नहीं है.
और अदालत को पता भी नहीं चलेगा कि उनके छोड़े हुओं को हमने सज़ा दे डाली है.

जिन्हें नहीं सुनाई देता चीत्कार उनके सामने रोने की ज़रुरत नहीं है.
बम हम फोड़ नहीं सकते क्योंकि क़ानून का उल्लंघन हम कर नहीं सकते.
पर हमारे वश में जो है. वह तो हम कर ही सकते हैं.


ख़ुदा

मैं तो तुम्हारा पीछा करते हुए ही दुनिया में आया था
और पीछा करते हुए ही चला जाऊँगा.
मेरे सारे कौतुक तुम्हारे लिए ही थे.
मेरा हर बहुरूप तुम्हारे लिए ही था.
सरकती पैंट और बहती नाक के समय से लेकर
बढ़ती तोंद और झूलती झुर्रियों के समय तक
मेरे सारे कार्य व्यापार तुम्हारे लिए ही थे.
तुम हो कि रौशनी में, रंगों में, सुगंधों में मिलते हो.

सपनों की लाशें

शायद हम एक ऐसी दुनिया से विदा लेंगे जहाँ, 
कातिल ख़ुद से ही बरी कर लेता है ख़ुद को.
जज ख़ुद को ही बर्ख़ास्त कर लेता है. 
धमाके ख़ुद ही हो जाते हैं और लोग उनमें ख़ुद ही मर जाते हैं.
लड़कियाँ ख़ुद ही बलात्कार कर लेती हैं.
जाँच ख़ुद ही बदल जाया करती हैं.
फाँसी का फंदा ख़ुद ही बन जाता है.
किसानों और लड़कियों में ख़ुद ही होड़ मच जाती है
कि मरने में किसकी संख्या ज़्यादा होगी.

पैसे ख़ुद ही लुट जाते हैं. देश ख़ुद ही बर्बाद हो जाता है.
दलित ख़ुद ही अछूत हो जाते हैं.
बुरका ख़ुद ही पड़ जाता है औरतों की अक्ल पे.

किसी ने नहीं मारा नरेंद्र दाभोलकर को, गोविन्द पानसारे को, 
एम एम कलबुर्गी को, गौरी लंकेश को.
सत्य की बात करने वालों ने जंभाई लेते हुए एक दिन सोचा
कि अब मर जाते हैं और मर गए.

कोई भी  ज़िंदा नागरिक ख़ुद कुछ नहीं कर रहा हमारे देश में. 
नदी की सतह पर ख़ुद बख़ुद तैर रही हैं देश के सपनों की लाशें.

तोड़ने दो.

वे मजबूर हैं अपनी खिसियाहट से.
अगर विचार की कोई मूर्ति बन पाती तो वे उसे तोड़ते.
गाँधी को क्यों मारते ?
क्यों तोड़ते वे बुद्ध की प्रतिमा को बामियान में,
अगर समता की कोई मूर्ति बन पाती तो.

या वे भगत सिंह को फांसी पर क्यों चढ़ाते,
उस क्रांति को फाँसी पर न लटका देते
जिसका सपना उसकी आँखों में था ?

वे क्यों तोड़ते मंदिरों को, मस्जिदों को ?
उन्हें नहीं तोड़ना पड़ता अम्बेदकर की मूर्ति को
अगर संविधान की कोई मूर्ति बन पाती तो.

देवियो सज्जनो, सदियों से झुंझलाए लोगों पर तरस खाओ.
जब उन्हें भूख लगेगी तब करेंगे बात.


प्रधानमंत्रीजी !

अगर यह भी तय हो जाए कि अब से मूर्तियाँ ही तोड़ी जाएँगी दंगों में.
तो मैं इस तोड़ फोड़ का समर्थन करूँगा.
कम से कम कोई औरत बच तो जाएगी बलात्कार से.
नहींचीराजाएगाकिसीगर्भवतीकापेट.

मैं तो कहता हूँ कि मूर्ति तोड़ने वालों को सरकार द्वारा वज़ीफ़ा भी दिया जाए.
कम से कम कोई सिर्फ़ इस लिए मरने से तो बच जाएगा
कि दंगाईयों के धर्म से उनका धर्म मेल नहीं खाता.

इसे रोज़गार की तरह देखा जाना चाहिए.
कम से कम सभी धर्म के लोग समान रूप से जुड़ तो पाएंगे इस राष्ट्रीय उत्सव में.
तब किसी दलित पर किसी की नज़र नहीं पड़ेगी
और ऐसे में कोई दलित बिना किसी बाधा के मूँछ भी रख पाएगा
और घोड़ी पर भी चढ़ पाएगा.

प्रधानमंत्री जी,  वैसे तो आप जनता की बात सुनते नहीं हैं.
पर यकीन मानिए मैं मुकेश अंबानी बोल रहा हूँ.

.....................
फ़रीद ख़ाँ
29 जनवरी 1975, पटना (बिहार) में जन्म।
D-3/26, अस्मिता ज्योति कोआपरेटिव हाउसिंग सोसायटी लिमिटेड, मार्वे रोड, चारकोप नाका, मलाड वेस्ट, मुंबई – 400095 (महाराष्ट्र)


हस्ताक्षर: Bimlesh/Anhad

Wednesday, November 21, 2018

पृथ्वी के लिए दस कविताएँ : राकेश रोहित



राकेश रोहित

राकेश रोहित कविता की दुनिया में दो दशकों से सक्रिय रहे हैं इनकी शुरूआती कविताएँ बहुत समय पहले पत्र-पत्रिकाओं में छप चुकी हैं अलावा कथा की परतें उधेड़ते हुए उनके कई लेख भी हम उनके ब्लॉग पर देख-पढ़ चुके हैं। बीच की शून्यता के बाद राकेश रोहित का कवि बहुत निखर कर सामने आया है और अपनी काव्य प्रतिभा और अछूते बिम्बों के प्रयोग से अतिरिक्त ध्यान खींचता है। प्रस्तुत कविताओं में पृथ्वी के बहाने कवि ने कई-कई दुनिया की तस्वीर बनाई है कई कोणों से कई-कई अर्थ-छोर का सफर किया है। कहने की जरूरत नहीं कि राकेश की कविताओं से गुजरे बिना समकालीन युवा कविता के मिजाज को समझना लगभग नामुंकिन है। अनहद पर इस युवा कवि की कविताएँ प्रस्तुत करते हुए हमें हर्ष और गर्व है।





पृथ्वी के लिए दस कविताएँ
       राकेश रोहित



1.
-----------------------
तुम्हें भूल जाऊँगा
-----------------------

पृथ्वी की कुंवारी देह पर लिखता हूँ
तुम्हारा नाम
जिस दिन बारिश होगी
मैं तुम्हें भूल जाऊँगा
चाँद की परी से कहता हूँ।

संसार की सारी नदियां समन्दर की ओर जाती हैं
जैसे संसार के सारे दुख
घेरते हैं मेरा स्वप्न 
टूट कर झर जाता है जो दिन
उससे चिपट कर वर्षों रोता हूँ मैं
फिर कहता हूँ
जिस दिन बारिश होगी
मैं तुम्हें भूल जाऊँगा।

हैरान हसरतों को मैंने
तुम्हारे चेहरे की तरह देखा
चुम्बनों की प्रतीक्षा में ढलती जाती थी जिसकी उम्र
तुम्हारी आंखों में एक किस्सा है न
जो चला गया है वन में
और तुम सोचती रहती हो मन में!

हम थोड़ी सी अपनी हथेली की ओट लगाये रखते हैं
वरना आकाश के नीचे उधड़ी दिखती है
हमारी इच्छाओं की देह
जो शरारत से खेलती रहती है संग मेरे दिन- रात
एक दिन उसे भूल जाऊँगा
जिस दिन बारिश होगी।

रात के अंधेरे में फूल अपना चेहरा धोते हैं
बारिश में धुल कर निखरती है पत्ती
फूल झर जाते हैं
हजार फूलों के स्वप्न को समेट कर
स्याह अंधेरे के सामने खड़ा होता हूँ
एक दिन विस्मय रह जायेगा
और तुम्हें भूल जाऊँगा।

समन्दर में धोता हूँ चाँद का चेहरा
समन्दर में हमारे आंसुओं का नमक है
समन्दर में चाँद की उदास परछाई है
समन्दर में चाँद के चेहरे पर दाग है
यह जो चाँद से मिलने को समन्दर इतना बेचैन है
यह चाँद से समन्दर की शिकायतें हैं
एक दिन सारी शिकायतें भूल जाऊँगा
कहता हूँ चाँद से
और समन्दर हो जाता हूँ।



2.
----------------------------------
मैंने पृथ्वी से प्यार किया है
----------------------------------

मैंनें पूरी पृथ्वी से प्यार किया है
और उन स्त्रियों से जिनके गीत मैं लिखता रहा।

वह लड़की जो स्वप्न में आकर छू गयी मुझे
उसका तसव्वुर नहीं कर पाता मैं
फिर भी उससे प्यार करता हूँ।

वे सारे सपने जो टूट गये
वे सारे फूल जो झर गये
वो पुकार जो तुम तक नहीं पहुंची
वो मुस्कुराहटें जिन्हें तुम्हारी नजरों ने कोई अर्थ नहीं दिया
सबके लिए विकल होता हूँ मैं
सारी अभिव्यक्तियों की प्रतीक्षा में
ठहर कर इंतजार करता हूँ
हर कहासुनी के लिए उद्धत होता हूँ मैं।

जिसे तुमने अपने मन की अंधेरी गुहाओं में छुपा रखा है
सदियों से
उसे सर्द दोपहरी की गर्म धूप दो
मैं इस सृष्टि का पिता हूँ
अगर एक चींटी भी रास्ता भटक जाती है
तो मुझे दुःख होता है।


3.
------------------
बची रहे पृथ्वी
------------------

मैंने कभी तुम्हारा नाम नहीं लिया
कभी सपने में तुम्हें देखा नहीं
फिर भी लिखता रहा कविताएँ
कि बची रहे पृथ्वी
तुम्हारे गालों पर सुर्ख लाल।

मैंने तुम्हें कभी पुकारा नहीं
पर तुमने पलट कर देखा
नहीं भूलती तुम्हारी वह खिलखिलाहट
जब तुमने कहा था
कवि हो न!
मुझे नहीं भूलने का शाप मिला है तुम्हें।

मैं पथिक था कैसे रूक कर
तुम्हारा इंतजार करता
मैंने चुटकी भर रंग तुम्हारी ओर उछाल दिया
जिसे दिशाओं ने अपने भाल पर सजा लिया है
एक नदी बहती है आकाश में
जिसमें तिरती है तुम्हारी कंचन देह।


4.
--------------
पृथ्वी माँ है
--------------

मैं जिस तरह टूट रहा हूँ
वह मैं जानता हूँ या पृथ्वी जानती है
हर रोज जितना अंधेरे से बाहर निकलती है
पृथ्वी, उतना ही अंधेरे में रोज डूबती है वह!


वसंत जिसके चेहरे पर सजाता है मुस्कराहटें
उसके अंदर आग है
सिर्फ बादलों ने जाना है उसका दुख
जब भीगती है पृथ्वी!

मैं पृथ्वी के लिए उदास कविताएं नहीं लिखता
वह बरजती है मुझे
पृथ्वी माँ है
वह हर वक्त मेरे साथ होती है।


5.
---------
कोई है
---------

मैं रोज थोड़ा टूटता रहता हूँ
टूटा नहीं हूँ कहकर मिलता हूँ उससे
फिर हम दोनों हँसते रहते हैं
और पूछते नहीं एक- दूसरे का हाल!

बचाने को कुछ बचा नहीं है जब
सितारों से प्रार्थना करता रहता है अकेला मनुष्य
सारी रात सितारे झरते रहते हैं पृथ्वी की गोद में
और सुस्ताता रहता है नदी की चादर पर उदास चाँद!

सुबह- शाम खींचता रहता हूँ लकीरें
वही शब्द है, वही मेरी अभिव्यक्ति है
कितनी दूर अंधेरे से आती है आवाज
एक चिड़िया जो पुकारती है- कोई है!


6.
-------------------------------------------
कविता के बिना अकेला था ईश्वर
-------------------------------------------

मनुष्य के बिना अकेला नहीं था ईश्वर
हमारी कविताएँ इस भय की कातर अभिव्यक्ति हैं।

घूमकर नहीं झूमकर चलती है पृथ्वी
इसलिए है शायद हमारी यात्राओं में बिखराव!
हम पानी की वह बूँद भी न हो सके
जो मिलती है मिट्टी में
तो मुस्कराता है बादल!

एक रात जब समंदर पर हो रही थी सघन बारिश
ईश्वर ने उस शोर को अकेले सुना
और भर दिया हमारी आत्मा में
सिरजते हुए हमारी देह!
आज भी मैं
उसी शोर में डूबी अपनी आत्मा को
समंदर पर अकेला चलते देखता हूँ
और देखता हूँ ईश्वर को
जो अकेलेपन में कविताएँ सुनता है!

कविता के बिना अकेला था वह
मनुष्य के बिना अकेला नहीं था ईश्वर!


7.
------------------
निर्दोष विस्मय
------------------

इस समय को
थोड़ी ऊब, बहुत सारा दुख
और मुट्ठी भर घृणा से रचा गया है।

...और जो कहने से रह गया है
कहीं विस्मृत थोड़ा समय
ढूंढता रहता है पराजित मन
वहीं ससंशय थोड़ा अभय!

रोज लहुलुहान हुई जाती है जिजीविषा
सहलाते हुए चोटिल स्मृतियों के दंश
फिर कैसे नाचती रहती है पृथ्वी
उन्मत्त थिरकती हुई धुरी पर
कैसे बचा लेते हैं फूल अपनी मुस्कराहटों में निर्दोष विस्मय!


8.
--------------------------
मेरी उदास आँखों में
--------------------------

मैं कविता में
आखिरी दुविधा वाले शब्द की तरह आऊंगा
कि यथार्थ को समझने के
प्रतिमान बदल जायेंगे
बहुत हिचक से मैं अंत में
एक  पूरा वाक्य लिखूंगा
बहुत संभव है आप जिसे
शीर्षक की तरह याद रखें!

जानता हूँ
फर्क नहीं पड़ता

अगर लिखता रहूँ दिन- रात
अनवरत बिना थके
पर एक सुझाव मेरा है
आप हर बार मेरी विनम्रता पर भरोसा न करें।

यह जो हर बार हहराये मन को
समेट कर आपसे मिलता हूँ 
इसकी एक बुरी आदत है
यह बुरा वक्त नहीं भूलता
एक जिद की तरह हर बार खड़ा होता हूँ
मैं उम्मीद की कगार पर
मेरी उदास आंखों में खिलखिलाती हुई पृथ्वी घूमती है।


9.
------
याद
------

अपनी कक्षा में घूमती पृथ्वी
अचानक अपनी कक्षा छोड़
मेरे सपनों में आ जाती है
जैसे बच्चे के पास लौटती है
आकाश में उछाली गेंद!

फिर मैं हिमालय से बातें करता हूँ
नदियों सा बहता रहता हूँ
और सूर्य के बेचैन होने से पहले
छोड़ आता हूँ उसे उसकी आकाशगंगा में।
       
अगर धरती खामोश हो
और उदास घूम रही हो
आप उसके करीब जाकर पूछना
हो सकता है उसको मेरी याद आ रही हो!


10.

---------
उम्मीद
---------

ग्रह नक्षत्रों से भरे इस आकाश में
कहीं एक मेरी पृथ्वी भी है
इसी उम्मीद से देखता हूँ आकाश
इसी उम्मीद से देखता हूँ तुमको!




                     ***