Search This Blog

Tuesday, January 5, 2010

कविता

जैसे एक लाल-पीली
तितली
बैठ गई हो
कोरे कागज पर नीर्भिक
याद दिला गई हो
बचपन के दिन....

No comments:

Post a Comment