Search This Blog

Thursday, April 26, 2012

विमलेन्दु की कविताएं


विमलेन्दु को पहली बार फेसबुक पर ही देखा-जाना। लेकिन शुरू दौर से ही इस कवि की कविताएं आकर्षित करती रहीं। आज भारी संख्या में लोग लिख रहे हैं। ढेर सारी कविताएं लिखी जा रही हैं। लेकिन यह सच है कि बहुत कम संजिदा कवि और संजिदा रचनाएं हैं। विमलेन्दु की कविताओं में कुछ खास है जो उन्हें भीड़ से अलग करती है। इस बार अनहद पर प्रस्तुत है उनकी कुछ कविताएं।

----------------------------------------------------------  

                       

                                                                                                                                            
एक सजग पाठक और बेपरवाह लेखक..कविता-कहानी-संगीत-फिल्म और न जाने किस-किस चीज़ के लिए दीवानगी..। टीवी-आकाशवाणी में प्रस्तोता..। वसुधापहलवागर्थसाक्षात्कार आदि पत्रिकाओं में वर्षों पहले कविताएँ/समीक्षा प्रकाशित..।आवारगी प्रधान लक्षण..।


बदनाम औरतों के नाम प्रेम-पत्र


रात गये    
इनकी देह में फूलता है हरसिंगार
जो सुबह
एक उदास सफेद चादर में तब्दील हो जाता है.

इनके तहखानों में
पनाह लेते हैं
उन कुलीन औरतों के स्वप्न-पुरुष
जिनकी बद् दुआओं को
अपने रक्त से पोषती हैं ये.

इनकी कमर और पिण्डलियों में
कभी दर्द नहीं होता
और कंधे निढाल नहीं होते थकान से.
इनके स्तनों पर
दाँत और नाखूनों के निशान
कभी नहीं पाये गये.

पढ़े लिखे होने का कोई भी
सबूत दिए बगैर
वे अपने विज्ञान को
कला में बदल देती हैं.

ये आज भी
दस बीस रुपये मे
बाज़ार करके लौट आती हैं
भगवान जाने
इनके चाचा दाई और जिज्जी की
दूकानें कहाँ लगती हैं

अपने जन्म की स्मृतियों का
ये कर देती हैं तर्पण
और मृत्यु के बारे में 
इसलिए नहीं सोचतीं
कि हर चीज़ सोचने से नहीं होती.

प्रेम मृत्यु है
इन बदनाम औरतों के लिए.

                  2.

इतिहास के अंतराल में कहीं
होती है इनकी बस्ती
जहाँ सभ्यताओं की धूल
बुहार कर जमा कर दी गई है.

इनके भीतर हैं
मोहन जोदड़ो और हड़प्पा के ध्वंस
पर किसी पुरावेत्ता ने
अब तक नहीं की
इनकी निशानदेही.

इन औरतो की
अपनी कोई धरती नहीं थी
और आसमान पर भी नहीं था कोई दावा
इसीलिए इन्होंने नहीं लड़ा कोई युद्ध.

कोई भी सरकार चुनने में
इनकी दिलचस्पी इसलिए नहीं है
कि सरकारें
न तो जल्दी उत्तेजित होती हैं
और न जल्दी स्खलित !
               **

तुमसे मिलने के बाद


कई बार माँ की गोद में सिर रखा  
बहुत दिनों के बाद
एकदम शिशु हो गया.
मित्र से लिपटकर खूब चूमा उसे
वह एकदम हक्का बक्का.

कई बार पकड़े गये हजरत
बिना बात मुस्कुराते हुए.

लौकी की सब्जी भी 
इतने स्वाद से खायी
कि जैसे छप्पन भोगों का रस
इसी कमबख्त में उतर आया हो.
आज खूब सम्भल कर चलाई स्कूटर.

जीवन से यह एक नये सिरे से मोह था.

कुछ चटक रंग
मेरी ही आँखों के सामने
मेरे पसंदीदा रंगों को बेदखल कर गये.

एकाएक जीवन की लय
विलम्बित से द्रुत में आ गई
एक शाश्वत राग को 
मैं नयी बन्दिश में गाने लगा.

भीषण गर्मी में भी 
कई बार काँप गया शरीर
अप्रैल के अंत की पूरी धूप
एकाएक जमकर बर्फ बन गई.

शर्म से पानी-पानी होकर
सूरज ने ओढ़ लिया शाम का बुर्का.

रात एक स्लेट की तरह थी मेरे सामने
जिस पर सीखनी थी मुझे
एक नई भाषा की वर्णमाला.

मैं एक अक्षर लिखता
और आसमान में एक तारा निकल आता
फिर धीरे धीरे
पूरा आसमान तारों से भर जाता.

तीन अक्षरों का तुम्हारा नाम पढ़ने में
पूरी रात तुतलाता रहा मैं ।
         **

नये साल में


नये साल में
मैं रोशनी और अँधेरे के बीच से
सारे बिचौलियों को हटा देना चाहता हूँ.

अगर समय मिले
तो मैं जाना चाहता हूँ बंजर खेतों में
और उन्हें
बीजों की साजिश बताना चाहता हूँ.

मैं उन गीतों को गुनगुनाना चाहता हूँ
जिन्हें हमारी स्त्रियाँ
आँचल की गांठ में
बाँधकर छुपाए रखती हैं.

मेरी इच्छा है
कि इस साल एक गौरैया
मेरे घर में अपना घोंसला बनाए.

मैं बादलों के नाम
एक खत भेजना चाहता हूँ
हवाओं के हाथ
जो बेशक धरती का प्रेमपत्र नहीं होगा.

मैं इन्द्रधनुष से कुछ रंग चुराकर
एक नया संयोजन
बनाना चाहता हूँ उनका.
जैसे पीले रंग के साथ लाल को रखकर
एक झण्डा पकड़ाना चाहता हूँ मैं
दुनिया के तमाम उदास लोगों को.
          **

जो इतिहास में नहीं होते


जो लोग इतिहास में  
दर्ज़ नहीं हो पाते
उनका भी एक गुमनाम इतिहास होता है.

उनके किस्से
मोहल्ले की किसी तंग गली में
दुबके मिल जाते हैं.
किसी पुराने कुएं की जगत पर
सबसे मटमैले निशान में भी
उन्हें पहचाना जा सकता है.

ऐसे लोग, आबादी के
किसी विस्मृत वीरान के
सूनेपन में टहलते रहते हैं.

एक पुराने मंदिर के मौन में
गूँजती रहती है इनकी आवाज़.

कुछ तो 
अपनी सन्ततियों के पराजयबोध में
जमें होते हैं तलछट की तरह.
तो कुछ
पुरखों की गर्वीली भूलों की दरार में
उगे होते हैं दूब की तरह.

जिन लोगों को 
इतिहास में कोई ज़गह नहीं मिलती
उन्हें कोई पराजित योद्धा
अपने सीने की आग में पनाह देता है.

ऐसे लोगों को
गुमसुम स्त्रियाँ
काजल की ओट में भी
छुपाए लिए जाती हैं अक्सर.

ऐसे लोग 
जो इतिहास में नहीं होते
किसी भी समय
ध्वस्त कर देते हैं इतिहास को.
                   **

                                                               संपर्कः

                                       पी.के. स्कूल के पीछे, गली नं. 2, रीवा (म.प्र.)
____________________________________________________________________________________________________________






हस्ताक्षर: Bimlesh/Anhad

Wednesday, April 18, 2012

उमा शंकर चौधरी की लंबी कविता


उमा शंकर चौधरी


उमा शंकर चौधरी हिन्दी कविता और कहानी में एक जाना-माना नाम हैं। अच्छी बात यह कि दोनों ही विधाओं में वे समान रूप से और लागातार सक्रिय हैं। उनकी इस लंबी कविता में तंत्र की साजिश और एक आम आदमी की बेवशी के चित्र देखने को मिलते हैं। कविता में एक कथात्मक प्रवाह है जो पाठक के मन में देर तक अपने प्रभाव छोड़ती है। उमाशंकर एक ऐसे कवि के रूप में जाने जाते हैं, जो समय की नब्ज को पकड़कर उसकी पड़ताल करने में माहिर हैं। यह लंबी कविता यहां पाखी से साभार दी जा रही है। आपकी प्रतिक्रियाओं का इंतजार तो रहेगा ही.....।

गांव में पिता बहादुर शाह ज़फर थे
-------------------------------------------------------

वह मेरे गांव की आखिरी असफल क्रांति थी 
जिसमें मेरे पिता की मौत हुई 
इसे आप मौत कहें या एक दर्दनाक हत्या।
मृत पिता का चेहरा आज भी 
मेरी आंखों में जस-का-तस बसा है 
वही पथरायी आंखें 
वही सफेद चेहरा 
चेहरे पर खून का कोई धब्बा नहीं है 
किसी अंग की विकृति के कोई निशान नहीं 
मेरी आंखों में मक्खियां भिनभिनाता 
पिता का चेहरा आज भी ठीक उसी तरह दर्ज है।

मेरा गांव, जहां थाना नहीं 
सड़क नहीं, कोई अस्पताल नहीं, कोई सरकारी दफ्तर नहीं 
वहां एक क्रांति हुई
सोचना बहुत अजीब लगता है 
लेकिन वह भीड़, वह हुजूम, वह जनसैलाब 
आज सोचता हूं तो लगता है कितना सुकून मिला होगा 
पिता को आखिरी सांस लेने में
मेरे गांव में अस्पताल नहीं था और लोग जीवित थे 
पूरे गांव में एक धनीराम ही था 
जो सुई देता था 
चाहे वह गाय-भैंस-बकरी हों या आदमी 
लेकिन उस गांव में बच्चे पैदा होते थे 
और किलकारियां भी भरते थे 

यह सब जिस तरह का विरोधाभास है 
उसी तरह मेरे पिता भी अजीब थे
मेरे पिता खेतिहर थे और इतिहास के बड़े जानकार थे 
मैंने बचपन से ही उनकी खानों में 
उनकी जवानी के दिनों की
इतिहास की मोटी-मोटी किताबों को देखा था 
पिता सुबह-सुबह हनुमान चालीसा पढ़ते 
और मैं गोद में ऊंघता रहता था 
रात में पिता इतिहास के गोते लगाते और 
हम सब भाई-बहन पिता के साथ 
1857
की क्रांति की तफ्तीश करने निकल जाते 
और फिर उस क्रांति की असफलता का अवसाद 
इन वर्षों को लांघ कर 
पिता के चेहरे पर उतर आता 
पिता गमगीन हो जाते 
और पिता की आंखों से आंसू झरने लगते थे

उस गांव में हवाएं तेज थीं 
लेकिन जिन्दगी बहुत ठहरी हुई थी 
गांव में बिजली नहीं थी और मैं 
पिता को अपने कान में फिलिप्स का रेडियो लगाये 
हर रोज देखा करता था 
उस रेडियो पर पिता ने चमड़े का एक कवर चढ़ा रखा था 
जिसे वे बंडी कहते थे
उसी रेडियो पर पिता ने 
इंदिरा गांधी की हत्या की खबर सुनी थी 
उसी रेडियो पर पिता ने 
राजीव गांधी की हत्या की भी खबर सुनी थी 
आज पिता जीवित होते तो देश से जुड़ने का सहारा 
आज भी उनके पास रेडियो ही होता 
वह रेडियो आज भी हमारे पास है 
और आज भी घुप्प अंधेरे में बैठकर हम 
उसी रेडियो के सहारे 
इस दुनिया को भेदने की कोशिश करते हैं

पिता के साथ मैं खेत जाता 
और वहां मेरा कई देशी उपचारों से साबका पड़ता 
पिता का पैर कटता और मिट्टी से उसे ठीक होते मैंने देखा था
गहरे से गहरे घाव को मैंने वहां 
घास की कुछ खास प्रजाति के रस की चंद बूंदों से ठीक होते देखा था
दूब का हरा रस टह-टह लाल घाव को कुछ ही दिनों में 
ऐसे गायब कर देता जैसे कुछ हुआ ही नहीं था
वह हमारा गांव ही था जहां 
बच्चों के जन्म के बाद उसकी नली 
हसुए को गर्म कर उससे काटी जाती थी
पिता जब तक जीवित रहे मां बच्चा जनती रही 
मां ने ग्यारह बच्चे पैदा किए थे 
जिनमें हम तीन जीवित थे 
आठ बच्चों को पिता ने अपने हाथों से दफनाया था 
और पिता क्या उस गांव का कौन ऐसा आदमी था 
जिसने अपने हाथों से 
अपने बच्चों को दफनाया नहीं था।
हमारा गांव कोसी नदी से घिरा था 
और पिता के दुख का सबसे बड़ा कारण भी यही था 
पिता 1857 की जिस क्रांति के असफल होने पर 
जार-जार आंसू बहाते थे 
उन्हीं आंसुओं से उस गांव में हर साल बाढ़ आती थी 
कोसी नदी का प्रलय हमने करीब से देखा था 
उस नदी के सहारे आये विषैले सांप 
पानी के लौटते-लौटते दो-तीन लोगों को तो 
अपने साथ ले ही जाते थे हर साल।

वह कोसी नदी मेरे पिता को 
अपनी खेत पर मेहनत करने से रोकती थी 
एक फसल कटने के बाद मेरे पिता 
बस उस खेत पर कोसी नदी के मटमैले पानी का इंतजार करते थे 
पिता अपनी खेत की आड़ पर बैठे रहते थे 
और कोसी नदी का पानी 
धीरे-धीरे उनकी ओर बढ़ता था 
पहले एक पतली धार से पानी धीरे-धीरे घुसता था 
और फिर एक दहाड़ के साथ।

उसी कोसी नदी के किनारे जो जगह थी 
और जहां बहुत दिनों तक सूखा रहता था 
मेरे पिता ने अपने आठों बच्चों को वहीं दफनाया था 
और पिता ही क्या गांव के हर आदमी ने अपने बच्चों को 
वहीं दफनाया था 
कहते थे अंधेरी रात में वहां एक औरत दिखती थी 
एकदम ममतामयी 
एक-एक कब्र से बच्चों को निकालकर दूध पिलानेवाली 
अपनी पायलों की रुनझुन रुनझुन की आवाज़ के साथ
हमारे गांव के सारे बच्चे तब तक 
उस कब्र में सोते रहते थे और उस ममतामयी मां के 
आंचल से दूध पीते रहते थे 
जब तक कोसी नदी अपने साथ उन बच्चों को 
वापस नहीं ले जाती थी 
कोसी नदी की बाढ़ 
उस जगह को खाली करती 
और फिर कुदाल चलाने पर वहां कभी भी 
बच्चे की खच्च से कटने की आवाज़ नहीं आती।
मेरे पिता जो इतिहास के जानकार थे 
और जिनकी आंखों से 1857 की असफल क्रांति को याद कर 
झरते थे झर-झर आंसू 
इस ठेठ गांव में चाहते थे एक क्रांति 
ठाकुर रणविजय सिंह के खिलाफ 
जिनके नाम से इस कोसी नदी के विनाश को रोकने के लिए 
बहुत पहले निकला था टेंडर 
जिनके नाम से सरकारी खजाने से निकला था 
सरकारी अस्पताल बनने का पैसा।
वह खुला मैदान हटिया की जगह थी 
जहां मेरे पिता हर बृहस्पतिवार को तरकारी के नाम पर 
खरीदा करते थे झींगा और रमतोरई 
लेकिन पिता ने तब कभी सोचा नहीं था कि 
ठीक उसी जगह पर एक दिन गिरेगी उनकी लाश 
उनकी वह पथरायी लाश जो मुझे आज भी याद है 
जस की तस।
पिता उस हटिया में हर गुरूवार को सब्जी खरीदते थे 
और अन्य दिनों लोगों को करते थे इकट्ठा 
वे कहते थे हमारी हल्की आवाज़ 
एक दिन गूंज में तब्दील हो जायेगी 
पिता कहते थे, उस विषैले सांप के डसने से पहले 
हमें ही खूंखार बनना होगा 
उसी हटिया वाले मैदान के बगल वाले कुंए की जगत पर बैठकर 
पिता हुंकार भरते थे 
पिता का चेहरा लाल हो जाता था 
और उनकी लाली से उस कुंए का पानी भी लाल हो जाता था 
पिता कहते थे हमें कम से कम जिंदा रहने का हक तो है ही 
तब कुंए का पानी भी उनके साथ होता था 
और वह भी उनकी आवाज़ में अपनी आवाज़ मिलाकर 
बाहर फेंकता था 
पहली बार जब पिता नहीं जानते थे 
तब इस दूसरी आवाज़ पर अन्य लोगों के साथ 
पिता भी चौंके थे।

पिता की हिम्मत बढ़ती गई थी 
उनके साथ कुछ आवाजें थीं 
कुछ इच्छाएं और कुंए के पानी का साथ 
तब पिता बहादुर शाह ज़फ़़़र बन गए थे
एक क्रांति का अगुवा 
लेकिन पिता बहादुर शाह जफ़र जितने बूढ़े नहीं थे
न ही बहादुर शाह ज़फर के जैसी उनकी दाढ़ी ही थी।

जिस दिन पिता अपनी सेना के साथ 
ठाकुर रणविजय सिंह की हवेली पर 
अपने सवाल का उत्तर मांगने जाने वाले थे उसी दिन 
पुलिस आयी थी 
हमने पहली बार उसी दिन अपनी आंखों के सामने 
नंगी पिस्तौल उस दारोगा के हाथ में देखी थी 
वह पिस्तौल एक खाकी रस्सी से 
उसकी वर्दी से गुंथी थी 
और फिर पिता को गोली दाग दी गयी थी
गोली एक हल्की कर्र की आवाज़ के साथ 
पिता के फेफड़े की हड्डी को तोड़कर घुसी होगी 
और पिता एक गोली में ही मर गये 
उसी हटिया में जहां वे तरकारी खरीदते थे 
दारोगा की उस एक गोली ने पिता की ही नहीं 
उस गांव की उम्मीदों की भी मार दिया था

पिता का चेहरा विकृत नहीं हुआ था 
लेकिन उस पर बहुत देर तक मक्खियां भिनभिनाती रही थीं
हमें पिता की लाश के पास आने नहीं दिया गया था 
और फिर उस लाश को कहीं गायब कर दिया गया था
वह दारोगा जो इस गांव के इतिहास में 
सदा याद रखा जायेगा 
को यह मालूम नहीं है कि उसने उस दिन मेरे पिता को नहीं 
बहादुर शाह ज़फ़र को मार दिया था।

मेरे पिता की लाश का क्या हुआ 
कुछ पता नहीं चला 
उन्हें जलाया गया, दफनाया गया 
कोसी नदी में फंेक दिया गया 
या फिर चील कौओं ने उनकी बोटी-बोटी नोच ली 
हम घरवालों के साथ-साथ हमारे गांव वालों को भी कुछ मालूम नहीं है
लेकिन दारोगा की उस गोली के बावजूद 
मेरे पिता मर नहीं पाये 
मेरे पिता मर नहीं पाये लेकिन इसलिए नहीं कि 
उन्होंने गांव की क्रांति के लिए 
इस अनुपजाऊ भूमि पर क्रांति का बिगुल फूंका था 
बल्कि इसलिए कि मेरे पिता की मौत ने 
सभी के दिलों में एक भयावह डर भर दिया था 
सबके कानों में पिता के फेफड़े की हड्डियों की 
कर्र से टूटने की छोटी सी आवाज आज भी जस की तस बजती है
मेरे पिता को मरे वर्षों गुजर गये 
लेकिन आज भी सब वैसा ही है 
हवाएं तेज हैं लेकिन गांव ठंडा है 
उस हटिया में जब भी तरकारी लेने जाता हूं तब हर बार 
पिता की लाश से टकराता हूं 
हर बार पिता मुझसे कहते हैं 
कम से कम तुम अपनी आवाज़ को ऊंचा करो।
मेरे गांव में आज भी बिजली, अस्पताल, थाना नहीं है 
और न ही कोसी नदी की विनाशकारी बाढ़ को रोकने का उपाय है 
अब मेरे सहित मेरी उम्र के सभी लोगों के बच्चे 
पट-पट कर मरना शुरू हो गये हैं 
और फिर वही सब 
कोसी नदी के किनारे दफनाने की प्रक्रिया 
रात में दूध पिलाने वाली मां का आना 
और बच्चों का उस ममतामयी मां का इंतजार करना 
और फिर वही कोसी नदी का अपने लौटते पानी के साथ 
बच्चों को अपने साथ ले जाना
मैं अपने रेडियो पर दुनिया की चमक के बारे में सुनता हूं 
और सोचता हूं इस बाढ़ के मंजर को सुनना और देखना 
कितना आनन्द देता होगा उनको
मैं जिस गांव में हूं सचमुच इस दुनिया की चमक के सामने
इस गांव के बारे में सोचना भी बहुत कठिन है 
मैं अभी जिन्दा हूं 
लेकिन मुझे अपने पिता का मृत चेहरा याद है 
इसलिए इस गांव में कोई क्रांति नहीं होगी। 
r r r
 

कवि परिचय
एक मार्च उन्नीस सौ अठहत्तर को खगडि़या बिहार में जन्म। कविता और कहानी में समान रूप से लेखन। पहला कविता संग्रह 'कहते हैं तब शहंशाह सो रहे थे(2009) भारतीय ज्ञानपीठ से प्रकाशित।  इसी संग्रह 'कहते हैं तब शहंशाह सो रहे थे पर अभी हाल ही में साहित्य अकादमी का युवा सम्मान(2012) इसके अतिरिक्त कविता के लिए 'अंकुर मिश्र स्मृति पुरस्कार (2007) और 'भारतीय ज्ञानपीठ का नवलेखन पुरस्कार(2008)। कहानी के लिए 'रमाकांत स्मृति कहानी पुरस्कार(2008)। अपनी कुछ ही कहानियों से युवा पीढ़ी में अपनी एक उत्कृष्ट पहचान। पीपुल्स पबिलशिंग हाउस द्वारा प्रकाशित 'श्रेष्ठ हिन्दी कहानियां(2000-2010) में कहानी संकलित। कहानी 'अयोध्या बाबू सनक गए हैं पर प्रसिद्ध रंगकर्मी देवेन्द्र राज अंकुर द्वारा एनएसडी सहित देश की विभिन्न जगहों पर पच्चीस से अधिक नाटय प्रस्तुति। कुछ कविताओं और कहानियों का मराठी, बांग्ला और पंजाबी में अनुवाद।


संपर्कः
उमा शंकर चौधरी
द्वारा ज्योति चावला, स्कूल आफ ट्रांसलेशन स्टडीज एण्ड ट्रेनिंग
15 सी, ग्राउन्ड फ्लोर, न्यू एकेडमिक बिलिडंग,
इग्नू, मैदानगढ़ी, नई दिल्ली-110068 मो.- 9810229111
umshankarchd@gmail.com



हस्ताक्षर: Bimlesh/Anhad