Search This Blog

Wednesday, July 26, 2017

अयोध्या पर एक ताजा संस्मरण - डॉ. जयश्री सिंह



पीले फूल कनेर के...
डॉ. जयश्री सिंह

डॉ. जयश्री सिंह
अँधेरा हो चला था। सड़कों की भीड़ गायब हो चुकी थी। घड़ी पर नज़र पड़ी। सवा आठ बज चुके थे। किसी अनजाने शहर में शाम के आठ के बाद का समय भी एक अनजाने भय का कारण बन जाता है। शाम चार बजे जिस रिक्शे से हम होटल से कनक भवन गए थे उसके चालक ने हमारी आपसी बातचीत से भाँप लिया था कि हम शहरी हैं और यहाँ दर्शन के लिए आये हैं। चलते समय दो सौ में लौटने तक की बात तय हुई थी किन्तु शाम तक बातें बना कर उसने जबरन चार सौ रूपये वसूल लिए। होटल से कनक भवन की दूरी तीन चार किलोमीटर से ज्यादा की न थी। जन्मभूमि, दशरथ महल,कनक भवन और हनुमान गढ़ी ये सारे स्थल दो तीन मिनट की पैदल दूरी पर आसपास ही स्थितहैं। अत: सारे दर्शन एक ही बार में पूर्ण कर, लौटते समय रास्ते में तुलसीदास उद्यान व राम पैड़ी पर कुछ पल ठहर कर अंत में सरयू की आरती देखते हुए हम होटल निकल जाना चाहते थे। किन्तु वह जिद पर अड़ गया कि आरती होने तक वह नहीं रुकेगा। हम आज सुबह ही आये थे और कल ही हमें लौटना भी था इसलिए माँइसी समय सरयू की आरती देख लेना चाहती थी। हमारा रुकना अनिवार्य था और उसे जाने की जल्दी थी।मेरे लाख कहने पर भी उसने रुकने से इन्कार कर दिया।

शुरुआत में जो रिक्शे वाला मुझे गरीब लग रहा था वही शाम तक लालची और चालाक लगने लगा। जिसकी दीन दशा पर अब तक मुझे दया आ रही थी। उसकी चालाकी देख अब मुझे अपनी उदारता पर गुस्सा आने लगा था। मैं उससे लड़ना नहीं चाहती थी और माँ को इस बात की बिलकुल भी भनक लगने देना नहीं चाहती थी कि वो तय से दुगुनी क़ीमत वसूल कर हमें होटल पहुँचाये बिना पक्के घाट पर ही उतार कर देर होने के बहाने चले जाना चाहता है। मैं जानती थी कि वो गलत है फिर भी उसकी गरीबी देख उसकी चालाकी पर कुछ भी कहना मुझे उचित न लगा। मैंने माँ की ओर देखा। माँ रिक्शे से उतर कर सरयू के प्रथम दर्शन कर प्रणाम करने में व्यस्त थी। मन में कुछ सोच कर बिना बात बढ़ाये मैंने अपना ठगा जाना स्वीकार कर लिया और उसकी ओर चार सौ रूपये बढ़ा दिए। सौ - सौ के चार नए नोट जेब के हवाले कर फुर्ती से रिक्शे पर पैडल मारता हुआ वहबड़ीतेजी से निकल गया। मैंने आज ही माँ से सुना था, 'ये देहात से जुड़ा इलाका है यहाँ - कहाँ कोई रिक्शे पर बैठता है। लोग दो - तीन किलोमीटर की दूरी पैदल चल कर ही तय कर लेते हैं।'मेरे दिन भर का निरीक्षण माँ के कहे सत्य को प्रमाणित कर चुका था। ऐसेमें उसे आज दो - तीन घण्टे की कमाई के चार सौ रूपये मिल गए थे। इन रुपयों से वह अपने परिवार के न जाने कितने जरुरी काम निपटा लेगा यही सोच कर ठगे जाने के बाद भी मैंने संतोष कर लिया। सरयू की आरती देखने में आठ बज चुके थे। शाम से यहाँ - वहाँ घूम कर हम काफ़ी थक भी चुके थे। अब बस यही इच्छा थी कि जल्दी से कोई रिक्शा मिले और हम होटल पहुँचे।

दिन भर कई रिक्शे वाले यहाँ - वहाँ खाली बैठे दिखते रहे किन्तु इस समय तो जैसे पैडल रिक्शे वालों का अकाल पड़ गया था। अँधेरा बढ़ने के साथ सड़कों पर भीड़ भी कम होती जा रही थी। एक दो रिक्शेवाले दिख भी गए तो वे होटल तक चलने को तैयार न हुए। अब तो स्थिति ये थी कि यदि कोई चलने को तैयार हो भी जाये तो हम उस पर विश्वास भी कितना करें! चिंता, डर, आशंका और माँ की डाँट के आगे मौन रह कर रिक्शा खोजने के अलावा मेरे पास और कोई चारा नहीं था। मैं मन ही मन भगवान को मनाने लगी। अवधबिहारी की भूमि पर उन्हीं से सुरक्षा और सहयोग की प्रार्थना करने लगी। तभी पीछे से सत्तर की उम्र का एक बूढ़ा धीरे - धीरे रिक्शा खींचता हुआ मेरे पास आया। उसकी उम्र और उसकी दशा देख कर मैंने उसे अनदेखा करने की भरसक कोशिश भी की। पर शायद उसने दूर से ही मुझे रिक्शा रुकवाते देख लिया था। मेरे पास आ कर उसने मुझसे पूछा, "कहाँ जाओगी बेटी?" मेरी समझ में नहीं आ रहा था कि मुझे क्या करना चाहिए? हम दो लोग और वो बूढ़ा। उत्तर में देरी होते देख उसने अपना प्रश्न दुहरा दिया। मुझे लगा कि शायद इसे पैसों की सख़्त जरुरत है तभी तो जब अधिकांश रिक्शे वाले घर जा चुके हैं तब भी वो अकेला सवारी की तलाश में रिक्शा लिए सड़क पर घूम रहा है। प्रत्उत्तर के इंतजार में देर तक वह मेरी ओर देखता रहा। बड़े संकोच से मैंने कहा - होटल रामप्रस्थ। उसने बड़ी गंभीरता से जवाब दिया,”बैठिये छोड़ देता हूँ। ज्यादा नहीं बीस रूपये दे देना।इस समय यदि कोई पचास भी माँगता तो हम बैठ जाते! पर उसके लिए तो बीस ही काफ़ी थे।डूबते को तिनके का सहाराएक पल को लगा जैसे नियति ने हमें एक दूसरे की सहायता के लिए ही भेज दिया है।हम रिक्शे पर बैठ गए। वो धीमी गति से रिक्शा खींचता चल पड़ा। मैंने मन ही मन भगवान से पूछा,"हे अयोध्यापति! हे नाथ! आपकी नगरी में जीने खाने वाले ये लोग इतने गरीब क्यों हैं?"

मैं मुंबई से अपनी माँ के साथ पहली बार अयोध्या आयी थी। मेरे लिए यहाँ सबकुछ नया था। मैंने बचपन में रामानंदसागर कृत 'रामायण'देखी थी। उसमें दर्शायी गयी अयोध्या नगरी मेरे कच्चे मानस पर रच बस गयी थी। चलते समय मेरे मन में रामजी की अयोध्या को देखने का बड़ा कुतूहल था। मन में अपार श्रद्धा और जिज्ञासा लिए मैं माँ के कहने पर उन्हें साथ ले कर अयोध्याआयी थी किन्तु यहाँ पहुँचने पर जो पाया वो मेरी कल्पना से सर्वथा भिन्न था। मेरे मन में अयोध्या की जो कल्पना थी वैसा यहाँ कुछ भी नहीं था। राजा राम की नगरी बिलकुल फटेहाल सी लग रही थी। तुलसीदास ने अपने रामचरितमानस के जरिये राम की जिस छवि को पूरे विश्व में स्थापित कर दिया उस राम की नगरी को देखने के बाद मुझे लगा कि मैं ही धोखे में नहीं बल्कि आज की इनस्थितियों ने स्वयं रामजी को भी धोखा दे दिया है। रामलला की जन्मभूमि सेना छावनी में तब्दील हो चुकी थी। सुरक्षा बलों की कड़ी जाँच से गुजरते हुए ऐसा महसूस हो रहा था जैसे हम सीमा पार किसी पराये देश में प्रवेश कर रहे हों। फूल - माला इत्यादि का दूर - दूर तक नामों निशान न था। मंदिर वाली कहीं कोई बातदिखाई न पड़ी।भूमि तक जाने वाले गलियारों में दुनिया भर की गंदगी पसरी थी।सीता रसोई और राम मंदिर के नाम पर मठाधीश भक्तों को कदम - कदम पर भ्रमित कर उन्हें अपने घरों में बुला कर दर्शन करवाने के नाम पर दक्षिणा लूटने में जुटे हुए थे।

एक ओर लूटपाट, दूसरी ओर गरीबी और इन सबके बीच कड़ी सुरक्षा जाँच के साथ जन्मभूमि की पुलिस छावनी में प्रवेश। ये सारी परिस्थियाँ मुझ जैसे नये नवेलेभक्त के मन से भक्ति का नवजातभाव समाप्त कर देने के लिए पर्याप्त थीं। मुझे आश्चर्य हो रहा था कि इन सबके बाद भी लाखों भक्तगण राम जी के नाम पर दक्षिण - पश्चिम भारत सहित देश विदेश के कोने - कोने से राम दरबार में कृपा पाने की इच्छा लिए चले आते हैं। कहीं सुना था किसी समय यही अयोध्या नगरी अपने संपूर्ण ऐश्वर्य से भगवान राम के साकेत धाम को भी लजा देती थी और आज लुटेरों और दंगाइयों ने साकेत धाम को लजाने वाली अयोध्या का ये हाल कर दिया कि यहाँ आने वाले विदेशी सैलानियों के आगे इसी अयोध्या की दशा पर हमें खुद ही लजाना पड़ रहा है। आँखों देखे इस कड़वे यर्थाथ से अचंभित, सारी बातों का चिंतन मनन करती हुई मैं सामान्य रूप से गतिशील उसके पैरों की ओर देखती रही। वह बड़ी मेहनत से सम्हलकर पैडल मारता हुआ रिक्शा चला रहा था। होटल पहुँचते हीरिक्शे से उतरकर सेवा पूर्ण कर देने की मुद्रा में वह विनीत भाव से खड़ा हो गया। उसने मुझसे कहा कि,“बिट्टी मैं यहीं थोड़ी दूरी पर रहता हूँ। यदि कल कनक भवन या जन्मभूमि जाना हो तो कहिये मैं सबेरे ही आ जाऊँगा।हालाँकि हम आज ही सारे स्थलों का दर्शन कर चुके थे। कल सुबह ग्यारह बजे की ट्रेन से हमें मुंबई लौटना था। किन्तु जाने से पहले कल एक बार फिर राम जी के दर्शनों की इच्छा थी।पचास का एक नोट उसे थमाते हुए कल सुबह साढ़े सात बजे आने को कहकर हम होटल के भीतर चल पड़े। नोट हाथ में ले कर कुछ सोचता हुआ वह वहीं खड़ा रहा फिर रिसेप्शन से आगेहमें कमरे की ओर बढ़ते देख उसने रिक्शा मोड़ लिया।

अगली सुबह साढ़े सात बजे चाय नाश्ता निपटा कर हम कमरे से बाहर निकलने ही वाले थे कि फ़ोन की घण्टी बजी। फ़ोन रिसेप्शन सेथा मैनेजर ने मुझसे पूछा, "मॅडम आपने किसी रिक्शे वाले को बुलाया था क्या?”मैंने हामी भरते हुए कहा कि हम तैयार हैं, बस निकल ही रहे हैं। हम तुरंत कमरा लॉक करके रिसेप्शन पर आ गए। मैनेजर ने मुझे बाहर की ओर इशारा कर सूचित किया कि यह रिक्शेवाला सुबह साढ़े छह बजे से होटल के बाहर खड़ा है और भीतर की ओर देख रहा है। उसकी मुद्रा से ऐसा प्रतीत होता है कि वह किसी के इंतजार मेंखड़ाहै। इस समय सात पैंतीस हो रहे थे और वो पिछले एक घंटे से हमारी प्रतीक्षा कर रहा था। जबकि मैंने उसे साढ़े सात बजे आने को कहा था। बाहर निकल कर मैंने उससे पूछा, "मैंने  साढ़े सातबजे कहा था फिर आप साढ़े छह बजे ही क्यों आ गए?”वह बड़ी सहजता से बोला,”बिट्टी मेरे पास घड़ी नहींहै। मै पढ़ालिखा भी नहीं हूँ। क्या समय हुआ है? मै भलाक्या जानूँ? मैंने सोचा कि मेरे कारण आपको देरी न हो जाये इसलिए सूरज उगते ही यहाँ चला आया।उसकी बातों ने मुझे निरुत्तर कर दिया था।

दिन के उजाले में उसके चेहरे और हाथ की झुर्रियाँ साफ दिख रही थीं। ऊँचा कद, दुबला शरीर, गहरी छोटी आँखें, धूप में झुलसी हुई काली चमड़ी,जगह - जगह सिला हुआ कुर्ता, मैली सी धोती, पैरों में टूटी हुई चप्पल। साथ में पुरानी सी रिक्शा, फ़टी हुई सीट, उखड़े हुए किनारे। उसका तथा उसके रिक्शे का मुआयना कर मैंने माँ की ओर देखा। माँ की आखों में भी यही सवाल था कि क्या इस रिक्शे में बैठना है? बूढ़ा गरीब नहीं बल्कि अत्यंत दरिद्र था। उसने हाथ के इशारे से बताया कि यहीं कुछ दूर मेरा घर है। उसके इंगित दिशा की ओर मैंने देखा तो होटल से कुछ ही दूरी पर सड़क किनारे एक टूटा हुआ झोपड़ा दिखाई पड़ा। झोपड़े के आस - पास कनेर के पुष्प की क्यारियाँ थी। इतना सब देखने और जानने के बाद ना कहने का कोई कारण नहीं था। मैंने सम्हाल कर माँ को रिक्शे पर चढ़ाया। सीट के किनारे की टीन जगह - जगह से फटी और उखड़ी हुई थी। चढ़ते समय कपड़ों के किनारों में फँसने अथवा फटने के डर से मैं भी बहुत सम्हल कर बैठीथी। इस बीच वह रिक्शे को कस कर पकड़ा रहा। अपने रिक्शे की स्थिति को वो हमसे बेहतर जानता था। हमारे बैठ जाने के बाद उसने रिक्शे के हैंडल पर टंगा हुआ अपना गमछा निकाला। बड़े धैर्य से गमछे की गाँठ खोलकर उसे मेरी ओर बढ़ा दिया। मैंने चौंक कर पूछा,“ये क्या? और मुझे क्यों दे रहे हैं?”गमछे में कनेल के ढ़ेर सारे ताजे पीले फूल थे। उसके इस व्यवहार से मुझे बड़ा ताज्जुब हुआ। मैंने उन फूलों को लेने से इंकार कर दिया। मेरे इंकार कर देने पर वह कुछ दुखी हो कर बोला, "बिट्टी ये फूल आज सुबह ही तोड़े हैं। आप कनक भवन जा रही हैं तो मेरी ओर से इन फूलों को रामजी के चरणों में चढ़ा देना। मैं तो कभी भीतर नहीं जा पाता। समय पर नहाधोही नहीं पाता। नहा भी लूँ तो पहनने के लिए दूसरे कपड़ेनहीं हैं। यही एक जोड़ी रोज पहनता हूँ।जब भी कोई सवारी ले कर भवन की ओर जाता हूँ तो वहीं मुख्य द्वार पर हाथ जोड़ कर माथा टेक लेता हूँ। आप कनक भवन जाएँगी इसलियेसबेरे जल्दी उठ कर ताजे फूल तोड़ कर ले आया हूँ।मैं न सही किन्तु मेरे ये पुष्प उनके श्री चरणों में पहुँच जाएँ तो बड़ी कृपा होगी। वे तो अयोध्या के नाथ हैं सबकुछ जानते हैं। उन्हीं की कृपा से हमें रोज रोटी मिल जाती है।" बूढ़ा राम जी की अदृश्य कृपा परह्रदय से कृतज्ञ था इसलिये आभार में उन्हें श्रद्धासुमन अर्पित करना चाहता था।उसकी पूरी कथा सुनने के बाद मेरी हिम्मत नहीं हुई कि मैं औरकुछपूछूँ अथवा कहूँ।

 मैंने प्लास्टिक की एक पन्नी में सारे फूल सहेज कर पर्स में रख लिए। बूढ़ा गंभीर मुद्रा में रिक्शे पर बैठ कर पैडल चलाने लगा। हम सड़क के उस पार पहुँचे ही थे कि उसकी रिक्शा में कुछ खट सी आवाज आई। मैंने पूछा, “क्या हुआ? ये कैसी आवाज थी?” उसने कहा ,"कुछ नहीं, बस दो मिनट में ठीक कर देता हूँ। आप बैठे रहिये।" दो मिनट में कुछ ठीक कर वो फिर पूर्ववत रिक्शा चलाने लगा। कनक भवन तक पहुँचने में यहीं क्रम दो तीन बार चलता रहा। वह जानता था कि उसके रिक्शे का मर्ज क्या है? किन्तु वह उसका इलाज़ करवाने में असमर्थ था इसलिए खुद ही कुछ कामचलाऊ उपाय कर आगे बढ़ता जाता। कनक भवन पहुँच कर वह किनारे एक ओर रिक्शा ले कर खड़ा हो गया। हम चप्पल उतार कर सीढ़ी चढ़ने लगे।मुख्यद्वार में प्रवेश कर भीतर आँगन के उस पार मुख्य मंदिर में प्रवेश किया तो पाया कि पट अभी खुला नहीं है। आठ बजने में कुछ ही मिनट बाकी थे। कल जिस माली से मैंने फूलों की बड़ी माला लाने को कहा था वो भी अभी आया नहीं था। समय हो चुका था, वह आता ही होगा! यह सोच कर हम भीतर पट के ठीक सामने बैठ गये। जो भक्त पहले से पहुँचे थे वे आँख मूँद रामनाम संकीर्तन में लीन थे। हम भी आँख मूँद कीर्तन का आनंद लेने लगे। थोड़ी थोड़ी देर में मैं बाहर आँगन की ओर देखती जाती किंतु माली अब भी आया नहीं था। सवा आठ बज चुके थे। मंदिर का पट खुलने ही वाला था।कल उसने कहा था कि रोजाना पट खुलने से पहले ही वह पहुँच जाता है किन्तु आजउसका कोई अता - पता न था। वह कनक भवन का एकलौता माली था। उसके न आने से सारे भक्तगण खाली हाथ ही रघुराई के दर्शन को विवश थे। भीड़ इतनी हो चुकी थी कि बाहर आँगन की ओर देख पाना मुश्किल हो गया। मैं बहुत आगे पट के बिलकुल सामने खड़ी थी। पट खुला, जय श्री राम के जयकारे लगने लगे, आरती शुरू हो कर अपनी गरिमा के साथ चलती हुई ख़त्म हो गयी।पुनः जय घोष होने लगे। मैंने अपने आस पास देखा। किसी के हाथ में फूलमाला नहीं दिखी।स्पष्ट था कि माली अब भी आया नहीं।उस दिन आरती के बादसीताराम को फूलों की कोई माला न पड़ सकी। मुझे बहुत अफ़सोस हो रहा था कि आज लौटने से पहले मैं अपने प्रभु को कुछ भी अर्पित न कर पायी। कहाँ तो सोचा था कि चलने से पहले बेला गुलाब की बड़ी सी माला चढ़ाउंगी और यहाँ तोअर्पण के लिए एक फूल तक नसीब नहीं। फूल के विषय में सोचते ही मुझे उस बूढ़े के दिए हुए फूल याद आये। मैंने पर्स में से पन्नी निकाल कर अंजली भर पीले कनेर के ताजे फूलों को राम जी की चरण पादुकाओं पर बिखेर दिया। कुछ फूल पंडित जी को दिए। उन्होंने मंत्रोच्चारण के साथउन्हें सीतारामके चरणों में अर्पित कर दिया। उस दिन श्री राम को अपने उसी भक्त के फूल स्वीकार करने थे जो अपने आप को हर कहीं से दीन - हीन मानता था। जो मंदिर के भीतर प्रवेश न कर बाहर से ही शीश झुका कर उन्हें प्रणाम कर लिया करता था। प्रसाद ले कर हम बाहर निकले। माली अब भी नहीं आयाथा। मैं जान गयी थी कि आज माली नहीं आयेगा क्योंकि आज राम जी नहा धो कर आये हुए भक्तों की माला के नहीं उस पवित्र ह्रदय वाले बूढ़े के भावों के भूखे थे।यह संयोग ही था कि नियमित समय पर आने वाला माली आज नहीं आ पाया थाऔर आज उस बूढ़े द्वारा भेजे गए फूल ही राम जी को चढ़ पाये थे। मैं यहसोचसोच कर गद्गद थी कि उस बूढ़े के फूलों को मंदिर तक पहुँचाने के लिए अयोध्यानाथ ने मुझे चुना।उस दिन मंदिर में यह जो कुछ भी घटित हुआउसे मेरे और माँ के अलावा और कोई नहीं जान पाया - न पंडित, न माली, न कोई दर्शनार्थी और न ही वह बूढ़ा।उन अदृश्य भावों को महसूस करमेरी आँखों से आँसू निकल आये। बाहर आ कर देखा तो बूढ़ा हमारे इंतजार में खड़ा था। मैंने उससे कहा,“बाबा सालों से राम जी को आप ही के फूलों की प्रतीक्षा थीइसलिए आज उन्होंनेकेवल आपके भेजे फूल स्वीकारकिये।हम रिक्शे में बैठ गये। वह होटल की दिशा में चल पड़ा। मै दुपट्टे की छोर से आँसू पोछती रही।मेरे लिए ये एक अद्भुत घटना थी। जो न कभी डाक पाया था द्वार, हुएआज उसी के पुष्प स्वीकार। मेरे दिल ने कहा धीरे से कहा, “अयोध्या जरुर बदल गयी है किन्तु अयोध्यानाथ आज भी यहीं हैं।

     जिसके दाता राम हों उसे कोई दे ही क्या सकता है? फिर भी, होटल पहुँच कर मैंने उसे कुछ सौ रूपये देने की कोशिश की। किन्तु उस संतोषी जीव के लिए कल के दिए पचास रुपये ही बहुत थे।इसलिए उसने आज कुछ भी लेने से इंकार कर दिया। मै चाहती थी कि वो उन रुपयों को ले ले और वह था कि मेहनत से अधिक कुछ भी लेने को तैयार न था। कुछ पल ठहर कर मैंने कहा, “ले लीजिये। इंकार न कीजिये। इसे राम जी की कृपा समझिये। इसमें आपका रिक्शा भी बन जायेगा और एक जोड़ी कपड़े भी आ जायेंगे।बहुत संकोच के साथ उसने रूपये स्वीकार किये। साढ़े नौ हो चुके थे। होटल की गाड़ी हमारे इंतजार में तैयार खड़ी थी।हमें देख मैनेजेर ने ड्राईवर से कह कर हमारा सामान डिकी में रखवा दिया। रिसेप्शन पर बिल भुगतान कर हम गाड़ी में बैठ गये। बूढ़ा एक किनारे खड़ा हो कर हमें देखता रहा।आगे के चौराहे से बाएँ घूम कर राम पैड़ी, तुलसी उद्यान तथा हनुमान गढ़ी की गली पार करती हुई हमारीगाड़ी तेजी से स्टेशन की ओर बढ़ चली।

(सितम्बर, 2015)

डॉ. जयश्री सिंह (मुंबई)

संपर्क - 9757277735





हस्ताक्षर: Bimlesh/Anhad

4 comments:

  1. आपकी लिखी रचना "पांच लिंकों का आनन्द में" शनिवार 09 सितम्बर 2017 को लिंक की जाएगी ....
    http://halchalwith5links.blogspot.in
    पर आप भी आइएगा ... धन्यवाद!
    

    ReplyDelete
  2. अच्छा लगा पढ़कर ।

    ReplyDelete
  3. यात्रा के विभिन्न रंगों से सजा संस्मरण बहुत अच्छा है ------ बहुत चीजों का ज्ञान हुआ ----------- बहुत शुभकामना ----

    ReplyDelete
  4. https://panseva.com/pancard_faq_list

    ReplyDelete